वास्तु अनुसार पूजा रूम टिप्स [Pooja Room Guide]

Pooja Room Vastu Tips in Hindi

पूजा रूम घर का सबसे महत्वपूर्ण स्थान होता है  इसलिए पूजा रूम का वास्तु अनुसार होना भी उतना ही आवश्यक  होता हैं !

पूजा रूम में घर की बाकि जगह से ज्यादा positive energy पाई जाती है!

इसलिए पूजा रूम को वास्तु में बताये दिए नियमों के अनुसार बनाना आवश्यक हो जाता है!


जैसा की आप जानते ही है, यदि पूजा रूम घर में सही दिशा में बना हो तो वह घर में positive ऊर्जा का संचार करता है!

और वे कौन से नियम है जो पूजा रूम को Vastu Compatible बनाते है!

यदि आप भी जानना चाहते है की आपका पूजा रूम वास्तु अनुसार है तो यहाँ आपको अपने इस सवाल का जवाब अवश्य ही मिल जाएगा !

पूजा रूम की स्तिथी :


पूजा रूम के सम्बन्ध में सबसे महत्वपूर्ण है उसकी स्तिथि , अतार्थ पूजा रूम किस जगह बना हैं ! 

जैसा की वास्तु में बताया गया है पूजा रूम को घर के उत्तर-पूर्व दिशा में बनाना चाहिए! 

इसके अतिरिक्त जो सबसे जरुरी है वे हे पूजा करते समय आपका मुख (Facing ) पूर्व की ओर होना चाहिये !

जिससे की पूजा करते समय ईश्वर के साथ-साथ सूरज से मिलने वाली ऊर्जा हमे प्राप्त हो सके !

वैसे तो पूजा रूम कि दिशा (पूजा करते समय मुख) के सम्बन्ध में कई प्रकार के confusion होते है, जैसे मंदिर की facing East होनी चाहिए!

जबकि यहाँ ये समझना जरुरी है की यदि आप मंदिर की facing East रखते है तब आप West face करेंगे इससे आपको मंदिर की positive ऊर्जा ही प्राप्त होगी!

परन्तु यदि आप अपने मंदिर की facing west रखें तब आप पूजा करते वक्त East को face करेंगे जिससे आपको मंदिर तथा ईस्ट से सूरज की ऊर्जा दोनों प्राप्त होंगे!

Bedroom के लिए वास्तु टिप्स पढ़ें !

पूजा रूम के लिए प्रमुख स्थान :


आगे के लेख में हम पूजा रूम के लिए वास्तु द्वारा बताया गया स्थान के बारे में विस्तार से जानेंगे !

वास्तुशास्त्र में पूजा करने का स्थान अपना अलग महत्व रखता है जैसा कि वास्तुशास्त्र के नियम भी ऊर्जा के आपसी समन्वय पर ही निर्भर करते हैं !

अतः ईश्वर की आराधना के लिए उपयुक्त स्थान होना अति आवश्यक है!

पूजा रूम घर में एक वह स्थान होता है, जहाँ आप सुबह meditation भी कर सकते है!

वास्तुशास्त्र के अनुसार, पूजा रूम की स्तिथि के बारे में जो नियम दिये गये है वे इस प्रकार है:

पूजा रूम इन North -East :

पूजा रूम या Prayer रूम के लिए वास्तु में ईशान कोण सबसे अच्छी दिशा बतायी गयी है!

जिसके अनुसार घर में North -East zone एक ऐसी जगह होती है जहाँ से हमे सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होती है!

इस दिशा को वास्तु में पूजा या ध्यान के लिए अति उत्तम स्थान माना गया है!

ईशान कोण में कुबेर जी और सूरज देवता कि ऊर्जा का प्रमुख स्तोत्र होता है!

अतः ईशान कोण में मंदिर बनाना सभी प्रकार से लाभदायक सिद्ध होता है!

परन्तु यहॉँ मंदिर बनाते समय यह अवश्य ध्यान रखें की आप मंदिर में बड़ी मुर्तिया ना रखें जिससे की ये दिशा heavy न हो जाये!

पूजा रूम इन ब्रहमस्थान :

ब्रहमस्थान घर का Center भी होता है! जैसा कि आप जानते है आधुनिक युग में जहाँ सब Flats में रहते है और यहाँ जगह की कमी पाई जाती है!

इसलिए ब्रहमस्थान में मंदिर बनाना बहुत मुश्किल हो जाता है!

ब्रहमस्थान में मंदिर पुराने समय में पाये जाते थे, जहाँ पर आँगन के बीच में तुलसी का पौधा और मंदिर बना होता था!

जोकि वास्तु के अनुसार सबसे अच्छी जगह होती है!

वास्तुशास्त्र में उपरोक्त दिशा मंदिर बनाने के लिए सबसे अच्छी बतायी गयी है! इनके अलावा यदि आप किसी और दिशा में मंदिर बनाते है तो उसके लिए किसी Vastu Consultant से सलाह जरूर लें !

 

पूजा रूम का रंग :

 
जैसा की आप जानते है, वास्तु में रंगों का अपना महत्व होता है!
 
दिशाओं के हिसाब से वास्तु में रंगों का चुनाव किया जाता है!
 
उसी प्रकार मंदिर में किस रंग का उपयोग करना चाहिए ये भी जानना अति महत्वपूर्ण हो जाता है!

वास्तुशास्त्र के अनुसार पूजा रूम में हल्के रंगो का इस्तेमाल करना चाहिए जैसे - हरा , क्रीम और ब्राउन ! 

नीला व काला रंग वास्तु के अनुसार पूजा रूम में नहीं करना चाहिये !

Dancing Ganesha significance Vastu in Hindi पढ़ें!

 

पूजा रूम कहाँ नहीं बनाए :


हमारे घर में कभी ऐसा भी देखा जाता है, की हम घर बनाते समय बाकि जगहों का ध्यान रखते है!

परन्तु पूजा रूम की जगह निश्चित नहीं करते!

और इस कारण पूजा रूम को कहीं भी बना लेते है, जोकि वास्तु की द्रष्टि से गलत है!

आगे लेख में हम इसके बारे में विस्तार से जानेंगे !

1. Bedroom में मंदिर:

आज के इस आधुनिक युग में जहाँ जगह की बहुत कमी पायी जाती है!

ऐसे में कई घरों में देखा जाता है, की मंदिर घर में बैडरूम के अंदर बना होता है!

ऐसा करना वास्तु के अनुसार दोष होता है!

अतः आप कभी भी बैडरूम में मंदिर ना बनाए !

इससे बैडरूम में रहने वालो में आपसी संबंधो में कढ़ोरता पायी जाती हैं !

2. Kitchen में मंदिर:

किचन के अंदर मंदिर बनाना, आज के समय की आम समस्या है!

ज्यादा तर घरों में जगह की कमी के कारण लोग किचन के अंदर ही मंदिर बना लेते है!

जैसा की वास्तु शास्त्र में kitchen के लिए अग्नि कोण बताया गया है और मंदिर के लिए ईशान कोण!

इसलिए ये दोनों साथ में बने होना आग और पानी को असंतुलित कर, घर में माहौल ख़राब करता हैं !

3. Toilet के सामने मंदिर :

टॉयलेट के सामने मंदिर बनाना कई कारणों से सही नहीं होता!

जैसा की आप जानते है, पूजा रूम घर का वह स्थान होता है जहाँ आप बैठ कर ध्यान करते है!

अतः आप मंदिर इस प्रकार से बनाए की वह Toilet को face न करें !

4. Stairs के अंदर मंदिर:

हमने stairs Vastu में विस्तार से बताया है की Stairs के नीचे , मंदिर बनाना सही नहीं होता!

इससे आपको मंदिर से positive energy प्राप्त नहीं होती!

ऐसी जगह जहाँ पर मंदिर , सीढ़ियों के नीचे बना होता है वहां लोगो का पूजा करने में मन नहीं लग पाता !

21 Tips for Stairs Vastu पढ़ें!

5. Beam के अंदर मंदिर :

मंदिर को किसी beam के अंदर नहीं रखना चाहिए!

beam के अंदर एक प्रकार कि नकारात्मक ऊर्जा निकलती रहती है! जिससे मंदिर में worship करने वाले को उससे नुकसान होता है!

और वह रोगों से ग्रसित हो जाता है!

पूजा रूम के लिए कुछ टिप्स:

  • पूजा रूम में एक प्रकार के भगवान की एक ही फोटो या मूर्ति रखें !
  • मूर्तियों को रखने से पहले नीचे लाल रंग का कपड़ा बिछाए !
  • यदि आपका पूजा रूम ईशान कोण में है तो आप लाल रंग का बल्ब लगायें !
  • धन प्राप्ति के लिए मंदिर में कुबेर यंत्र अवश्य रखें!
  • यदि आपका घर बहुमंजिला है तो मंदिर आप ground floor पर रखें!
  • मार्बल लगाना मंदिर में अच्छा होता है पर ये सफ़ेद रंग का होना चाहिए!
  • मंदिर में मुर्तिया रखते समय ध्यान रखें की वह टूटी हुई न हो!
  • पूजा रूम के सामने शौचालय न बनाए। ये बहुत कष्दायक होता है!
  • पूजा रूम में शंक रखना वर्जित होता हैं !
  • पूजा रूम को सीढ़ियों के भीतर नहीं बनाना चाहिए !
 पूजा रूम के सम्बन्ध में वास्तुशास्त्र में कई नियम दिये गए है उनमे से कुछ प्रमुख नियम यह बताये गये है!

जिनकी सहायता से आप अपने घर में पूजा रूम कहाँ बनाये और उसमे क्या रखें स्पष्ट रूप से बताया गया हैं !

हम आशा करते है उपरोक्त जानकारी आपके लिए लाभकारी होगी तथा इसके प्रयोग से एवम वास्तु की सहायता लेकर आप अपना जीवन सुखद बना सकते हैं !
 
यदि ये लेख आपको अच्छा लगा हो तो इसे आप share जरूर करें!

No comments:

Post a Comment

Please do not enter any Spam link in the comment box.

INSTAGRAM FEED

@soratemplates