Vastu for House/Home in Hindi, वास्तु के अनुसार घर। Vaastu Tips in Hindi

Vastu for House/Home in Hindi, वास्तु के अनुसार घर में Tips and Remedies व Vaastu in Hindi के बारे में जानेंगे।

Vastu Shastra  के अनुसार घर में चीजों की दिशा व उनसे सम्बंधित Vastu Tips के बारे में जानेंगे।

Vastu for House
Vastu for House



घर की ऊर्जा , घर के सदस्यों के जीवन व उनके रहन - सहन में अपना बहुत अधिक प्रभाव रखती हैं। हम जैसी ऊर्जा या Environment में रहते है, वैसा ही हम अपने कार्य में भी करते हैं।

इसी कारण हमे अपने घर की ऊर्जा का खास ध्यान रखना चाहिए। और ये ऊर्जा घर में कई चीजों पर निर्भर करती हैं , जैसे- घर में गंदगी , घर व्यव्स्तिथ न होना इत्यादि।

इसके अतिरिक्त वास्तुशास्त्र भी एक प्रमुख कारण है, जो हमारे घर की ऊर्जा में महत्वपुर्ण भूमिका रखता हैं। जैसा की हम पहले भी बता चुके है, वास्तु में ऊर्जा का सही प्रकार आदान -प्रदान।

House Vastu को अच्छा करने के लिए कुछ चीजों का सही होना जरुरी है, आइए उनके बारे में जानते हैं।


मुख्य द्वार की दिशा:


किसी भी घर की ऊर्जा का 20% भाग घर के मुख्य द्वार की दिशा पर निर्भर करता हैं। इसलिए हमे सबसे पहले मुख्य द्वार की दिशा व उसके जोन के बारे में ध्यान देना चाहिए। 

मुख्य द्वार सबसे अधिक उत्तर या पूर्व दिशा का शुभ होता हैं। 

इसके अतिरिक्त मुख्य द्वार का किसी और दिशा में बना होना , और कई बातों पर निर्भर करता हैं। 

जिसको विस्तार से समझने के लिए आपको Main Door वास्तु पढ़ना चाहिए। 

मुख्यद्वार से ही घर में ऊर्जा का आदान होता हैं , अतः कुछ चीजें है जिन्हे हमे ध्यान रखना चाहिए। 

  • मुख्यद्वार के सामने कोई बाधा नहीं होनी चाहिये। 
  • यदि कोई पेड़ मुख्यद्वार के सामने हो तो उसे वहाँ से हटवा देना चाहिए। 
  • किसी भी प्रकार का इलेक्ट्रिक उपकरण जैसे- Transformer , बिजली का खम्बा इत्यादि नहीं होना चाहिये। 
  • Main Door को T-Point के पास नहीं होना चाहिए। 

सीढ़ियों की दिशा :


किसी भी घर में सीढ़ियों का स्थान उस घर के अनुकूलन के लिए अति महत्वपूर्ण होता हैं। सीढ़ियों पर घर का भार होता है ऐसा वास्तुशास्त्र की मान्यता हैं। 

अतः सीढ़ियों का वास्तु विस्तार से जानना अति आवश्यक हैं। 

किसी भी घर में उत्तर-पश्चिम व दक्षिण-पूर्व सीढ़ियों को बनाने के लिए उपयुक्त स्थान हैं। 

इसके अतिरिक्त सीढ़ियां यदि किसी और दिशा में बनी हो तो उनका उपाय जरूर करें ! उसके लिए Vastu Tips for Stairs जानें। 


ब्रहमस्थान :

किसी भी घर का Center यानि Brahmasthan घर के लिए अति आवश्यक होता हैं।  घर के ब्रह्मस्थान में किसी भी प्रकार का वास्तु दोष सीधे घर के मुखियाँ को प्रभावित करता हैं। 

इसलिए इसका ध्यान देना अति आवश्यक हो जाता हैं। 

ब्रह्मस्थान वास्तु के अनुसार घर में निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए :

  • ब्रह्मस्थान में किसी भी प्रकार का निर्माण नहीं होना चाहिए। 
  • इसको खुला रखना चाहिए। 
  • यदि घर के सेण्टर में मंदिर बनाये तो वह ज्यादा शुभ होता हैं। 

ये भी पढ़ें: Vastu Tips for Brahmasthan in Hindi. 

टॉयलेट एंड बाथरूम वास्तु :


Vaastu में Toilet व बाथरूम का स्थान बताया गया हैं , उसके अनुसार उत्तर-पश्चिम दिशा सबसे उत्तम स्थान बताया गया हैं। 

Toilet Vastu एक बहुत ही बड़ा विषय हैं।  अतः उसके बारे में विस्तार से जानना भी अति आवश्यक हैं। 

क्योकि घर का Toilet सीधे तोर पर घर में money को प्रभावित करता हैं। 


रसोईघर वास्तु:


घर का ये स्थान घर की महिलाओं को सीधे प्रभावित करता हैं। 

अतः घर में किचन की दिशा व इसका वास्तु सही होना चाहिये। 

किचन के लिए वास्तु में दक्षिण-पूर्व दिशा सबसे उत्तम होती हैं। 

साथ ही भोजन बनाते समय पूर्व दिशा की ओर मुख होना वास्तु के अनुसार अति शुभ माना जाता हैं। 

इसके बारे में विस्तार से हम पहले ही बता चुके हैं। 




Bedroom Vastu :


वास्तुशास्त्र के अनुसार Master Bedroom दक्षिण-पश्चिम दिशा में होना चाहिए। साथ ही सोते समय सर दक्षिण दिशा में रखना चाहिए। 

यदि बच्चो के कमरे की बात करे तो यह ईशान कोण में बना हो तो अति लाभ दायक होता हैं। 


मंदिर के लिए वास्तु:

मंदिर का सही स्थान घर की सकारात्मक ऊर्जा का प्रमुख स्तोत्र होता हैं। 

जैसा की वास्तु में बताया गया है, घर का मंदिर ईशान कोण या ब्रह्मस्थान में होना चाहिए। 

मंदिर का सम्पूर्ण वास्तु जानने के लिए आप पूजा रूम वास्तु टिप्स जरूर पढ़ें। 



उपरोक्त कुछ मुख्य कारण है, जोकि किसी भी घर की ऊर्जा में अपना महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं।

आगे हम कुछ ऐसे टिप्स के बारे में जानते है, जिनसे हम अपने घर की ऊर्जा को बढ़ा सकते हैं।

Vastu Tips for Home in Hindi 


  1. घर के मुख द्वार पर कॉपर का स्वस्तिक लगाना चाहिए। 
  2. यदि घर का मुख East हो तो वहां सूर्य का मुख जरूर लगाना चाहिए। 
  3. साउथ फेसिंग घर में मुख्यद्वार पर पञ्च मुखी हनुमान जी जरूर लगायें। 
  4. घर में तुलसी का पौधा साउथ में रखना चाहिए। 
  5. छत के साउथ की दीवार हमेशा ऊँची होनी चाहिए। 
  6. घर में फिश एक्वेरियम रखना घर की ऊर्जा को बढ़ाता हैं। 
  7. साउथ-वेस्ट की दीवार पर अपने पित्रो की फोटो लगाना चाहिए। 
  8. घर के master bedroom में कोई शीशा नहीं लगाना चाहिए। 
  9. मास्टर बैडरूम में Bed के पीछे couple picture लगानी चाहिए। 
  10. मंदिर के अंदर लाल कपडे का प्रयोग करना चाहिए। 
  11. Locker के अंदर शीशा लगाना चाहिए। 

Conclusion: 

वास्तुशास्त्र एक बहुत ही बड़ा विषय है, परन्तु उपरोक्त लेख में हमने घर की ऊर्जा व वास्तु फॉर होम के बारे में बताने की कोशिश की हैं। 


इसके बारे में विस्तार से समझने के लिए आपको हमारा हर एक लेख पढ़ना चाहिए।  ऐसा कर आप भी अपने घर को वास्तु अनुकूल बना सकते हैं। 

Related Articles :







No comments:

Post a Comment

Please do not enter any Spam link in the comment box.

INSTAGRAM FEED

@soratemplates