वास्तु अनुसार बनाये बालकनी | Vastu for Balcony Hindi

वास्तु अनुसार बनाये बालकनी ,Vastu for Balcony Hindi, Balcony Vastushastra में हम Balcony Position घर में बालकनी सही दिशा में बनाने के नियमों के बारे में समझेंगे। Balcony Vaastu in Hindi में बालकनी के सम्बन्ध में सभी Vaastu नियमों के बारे में समझाया गया हैं।

Balcony Vastu Hindi


किसी भी घर के निर्माण के समय ये निश्चित करना अति महत्वपूर्ण होता है की उस घर में बालकनी कहा बनेंगी। जैसा की ज्यादा तर घरों के मुख पर ही बालकनी बनायी जाती हैं।

इसलिए घर की फेसिंग का बहुत महत्व बढ़ जाता हैं, परन्तु ऐसा जरुरी नहीं है की वास्तु अनुसार बालकनी पोजीशन सिर्फ घर के मुख पर ही संभव हैं।

दिशा के अनुसार घर के पीछे व साइड में भी बालकनी बनायी जा सकती हैं इसलिए बालकनी के सम्बन्ध में वास्तुशास्त्र के नियम समझना जरुरी हैं।

Balcony:


घर में हमे कुछ ऐसी जगह की आवश्यकता होती है जहाँ हम बाहरी वातावरण का आनंद ले पाये। इसी कारण घरों में बालकनी का निर्माण  किया जाता हैं। 

साथ ही बालकनी से घर में रोशनी भी आती हैं। जोकि घर की ऊर्जा में बहुत ही सकारात्मक प्रभाव डालती हैं। और बालकनी से घर में ऊर्जा का संचार बना रहता हैं। 



Vastu Position for Balcony:


वास्तु के अनुसार बालकनी की दिशा निर्धारित करने के लिए किसी भी जगह की दिशा समझना जरुरी हैं। 

वास्तु में बालकनी बनाने के लिए नार्थ, ईस्ट और नार्थ-ईस्ट दिशा अनुकूल बतायी गयी हैं। 

बालकनी निर्माण में यह ध्यान रखना चाहिए की बालकनी घर से बाहर की और बड़ी हो। 

आगे लेख में हम बालकनी के सम्बन्ध में कुछ Vastu Tips के बारे में जानेंगे जिनकी सहायता से आप बालकनी वास्तु में किसी भी प्रकार की त्रुटि न करें। 


Vastu Tips for Balcony:


बालकनी की सही स्तिथि तथा उसका वास्तु अनुसार बना होना किसी भी घर के वास्तु में अपना बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखता हैं।  

इस कारण जरुरी है की बालकनी वास्तु के नियमों को अच्छे से समझे और उन्हें अपने घर में उपयोग करें। 

  • घर के East में बालकनी का निर्माण घर में सफलता के नये अवसर लाता हैं। 
  • बालकनी के सामने कोई भी पेड़ इत्यादि नहीं होना चाहिए ऐसा होने पर घर के अंदर ऊर्जा का प्रवाह नहीं हो पाता। 
  • South या West direction में बालकनी बनाने से उस घर में बीमारियों का आना बना रहता हैं , इसलिए साउथ और वेस्ट में बालकनी नहीं बनानी चाहिए। 
  • घर के साउथ में यदि बालकनी बनी है तो उसका उपाय करें और वहॉँ Red Elephant का pair बालकनी में रखें, ऐसा करने से साउथ बालकनी का उपाय हो जाता हैं। 
  • किसी भी प्रकार का कूड़ा बालकनी में रखना घर में धन समस्या का मुख्य कारण होता हैं। 
  • कई जगह देखा जाता है की बालकनी में हम घर का मंदिर बना लेते है ऐसा करना पूजा रूम वास्तु नियमो के विरुद्ध होता हैं। 
  • घर में यदि नेचुरल प्लांट लगाए जाये तो बालकनी इसके लिए सबसे अच्छी जगह होती हैं। 
  • नार्थ बालकनी में स्वस्तिक जरूर लगाना चाहिए। 
  • वास्तु में बालकनी की ऊंचाई ज्यादा नहीं रखनी चाहिए। 
  • यदि आप बालकनी बनाना चाहते है तो उसे खुला रखें। 
  • यदि घर का Main Door, T-Point पर हो तो वहां बालकनी नहीं बनानी चाहिए। 


उपरोक्त बालकनी वास्तु नुस्खे अपना कर आप भी अपने घर में सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ा सकते हैं। 

आशा करते है उपरोक्त जानकारी आपको अच्छी लगी होगी इसे Share जरूर करें। 

यदि आपका कोई भी वास्तु सम्बन्धी प्रश्न हो तो उसे लेख में comment करके अवश्य पूछे। 

आपके उपयोगी समय के लिए आपका धन्यवाद। 

ये भी पढ़ें:

No comments:

Post a Comment

Please do not enter any Spam link in the comment box.

INSTAGRAM FEED

@soratemplates