400 Vastu tips in Hindi [Best Vastu in Hindi]


आप सभी ने Vastu या Vastu Shastra के बारे में कही न कही सुना होगा और आपने भी सोचा होगा की क्यों न आप भी इसका फायदा ले। इसके लिए जरुरी है की आप इसके बारे में जाने जैसे- जैसे आप वास्तुशास्त्र के बारे में जानेंगे आपको इसमें और ज्यादा रूचि होने लगेगी। इसका कारण है वास्तुशास्त्र का बहुत ही सरल होना। 

वास्तुशास्त्र एक ऐसी कला है जिसके प्रयोग से हम अपने घर को सुख शांति व समृद्धि से परिपूर्ण कर सकते है, इसके लिए जरुरी है तो बस वास्तु के बारे में जानना तथा उसे अपने घर में अप्लाई करना। 

आज के इस लेख में हम किसी भी घर के विभिन्न जगहों के अनुसार 400 Vastu Tips in Hindi के बारे में विस्तार से जानेंगे, जिनकी मदद से आपके सभी प्रश्नों के उत्तर लेख के अंत तक आपको मिल जाएंगे। 

400 Vastu Tips in Hindi:


400-Vastu-Tips-in-Hindi


किसी भी घर को आदर्श घर बनाने के लिए जरुरी है की हम वास्तुशास्त्र में बताये सभी नियमो का सही से पालन करें , जिससे की घर में किसी भी प्रकार का वास्तु दोष उतपन्न न हो। इसके लिए जरुरी है की हम घर की विभिन्न जगहों के अनुसार Vastu Tips के बारे में जाने। 

1. Vastu Tips in Hindi for Home Construction:

  1. किसी भी घर के निर्माण के लिए जरुरी है प्लाट की दिशा का निर्धारण करना, जिससे हमे पता चले की Plot Vastu के अनुसार है की नहीं। 
  2. इसके बाद हमे ज्ञात करना चाहिए की प्लाट के किस दिशा में रास्ता है जिससे हमे फेसिंग के बारे में पता चले। 
  3. हमेशा ध्यान रखें की प्लाट का स्लोप नार्थ से साउथ की ओर हो जिसमे नार्थ, साउथ से कम ऊँचा होना चाहिए। 
  4. घर बनाने की शुरुवात हमेशा नार्थ दिशा से करनी चाहिए। 
  5. सबसे पहले नीव रखते समय पूजा तथा ब्रह्मस्थान एक्टिवेशन करना जरुरी होता है ताकि प्लाट में मौजूत नकारात्मक ऊर्जा समाप्त हो जाए। 
  6. प्लाट के नार्थ व ईस्ट दिशा में कोई पेड़ नहीं होना चाहिए। 

2. Vastu Tips for Ghar ka Naksha:

  1. निर्माण शुरू करने से पहले घर का नक्शा तैयार करवाए जोकि घर वालो की जरूरत के अनुसार हो तो वास्तुशास्त्र के नियमों के अनुरूप हो। 
  2. नक्शा बनाते समय ध्यान रखे की उसमे दिशाए दर्शाइ गयी हो। 
  3. हर एक जरूरत की जगह जैसे किचन , टॉयलेट व बैडरूम वगेरा को नक्शे में सही प्रकार से दर्शाना चाहिए। 
  4. एक नक्शा ऐसा जरूर बनाये जिसमे रंगो को दर्शाया जाये जोकि वास्तु अनुसार हो। 
  5. घर के नक़्शे में सभी चीजे जैसे बेड , सोफे इत्यादि चिन्हित होने चाहिए। 

3. Vastu Tips for Borewell:

  1. घर के ईशान कोण यानि नार्थ -ईस्ट दिशा में बोरवेल कराना चाहिए। 
  2. हमेशा ध्यान रखें की बोरवेल घर के अंदर होना चाहिए नहीं तो इसका फायदा घर को नहीं मिलता हैं। 
  3. बोरवेल वास्तु के अनुसार नार्थ में कराने से हमेशा धन की प्रचुरता रहती हैं। 
  4. ये भी सुनिश्चित करे की बोरवेल के चारो ओर चबूतरा हो जोकि फर्श से ऊँचा होना चाहिए। 
  5. हरे रंग का उपयोग बोरवेल पर करने से सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती हैं। 

4. Vastu Tips for Electric Meter:

  1. इलेक्ट्रिक मीटर वास्तु के अनुसार साउथ -ईस्ट में लगाना चाहिए। 
  2. यह बिलकुल मुख्यद्वार के पास नहीं होना चाहिए। 
  3. इसको हमेशा कवर होना चाहिए, लकड़ी के बॉक्स में कवर करना सबसे अच्छा होता हैं। 
  4. मीटर के आसपास लाल रंग का इस्तेमाल करना चाहिए। 
  5. हमेशा ध्यान रखें की इलेक्ट्रिक मीटर मकान के अंदर हो नाकि घर से बाहर। 

5. Vastu Tips for Main Door:

  1. मुख्यद्वार वास्तु के अनुसार नार्थ या ईस्ट दिशा में बनाना चाहिए। 
  2. बाकि दरवाजो के मुकाबले मुख्यद्वार आकार में बड़ा होना चाहिए। 
  3. हमेशा ध्यान रखें मुख्यद्वार के सामने कोई अवरोध न हो। 
  4. Main door के पास हमेशा उजाला रखें। 
  5. स्वस्तिक का चिन्ह मुख्यद्वार पर लगाना चाहिए। 
  6. लकड़ी तथा लोहे का बना मुख्यद्वार सबसे उपयुक्त होता हैं। 
  7. कभी भी मुख्यद्वार के पास टॉयलेट नहीं बनाना चाहिए ऐसा होने पर घर का बड़ा बेटा मानसिक रोगी होता हैं। 
  8. बेसमेंट और घर का मुख्यद्वार अलग -अलग बनाये। 
  9. ईविल ऑय को घर के मुख्यद्वार पर लगाने से घर में नकारात्मक ऊर्जा का वास नहीं हो पाता हैं। 
  10. घर के बाहर के रंग कराते समय दिशाओ का विशेष ध्यान रखना चाहिए। 

6. Vastu Tips for Underground Water Tank:

  1. हमेशा घर के ईशान कोण में Underground Water tank का निर्माण कराना चाहिए। 
  2. ईशान कोण में पानी को संचय करना बहुत ही शुभ होता हैं। 
  3. वाटर टैंक वास्तु के अनुसार बनाने से घर में कभी भी धन की समस्या पैदा नहीं होती हैं। 
  4. नीले हल्के रंग से वाटर टैंक को रंगना चाहिए। 
  5. वाटर टैंक के पास हमेशा हरे रंग का बल्ब लगाना चाहिए। 

7. Vastu Tips for Living Room / Drawing Room:

  1. किसी भी घर के नार्थ -ईस्ट व नार्थ -वेस्ट में लिविंग रूम का निर्माण करना चाहिए। 
  2. लिविंग रूम वास्तु के अनुसार बनाया जाना चाहिए, जिसमे हर एक चीज वास्तु के नियमों के अनुसार रखी गयी हो। 
  3. रंगों का चयन लिविंग रूम की दिशा के अनुसार करना चाहिए। 
  4. हमेशा ध्यान रखे ड्राइंग रूम के नार्थ -ईस्ट को हल्का रखें तथा साउथ -वेस्ट में सोफा इत्यादि भारी समान रखें। 
  5. यदि आप फिश एक्वेरियम रखना चाहते है तो इसके लिए नार्थ -ईस्ट सबसे उपयुक्त स्थान होता है , इससे घर में हमेशा पैसों की अधिकता रहती हैं। 
  6. मनी प्लांट इत्यादि लिविंग रूम के नार्थ या ईस्ट में लगाने से ऊर्जा सदैव सकारात्मक बनी रहती हैं। 
  7. लिविंग रूम की सजावट करते समय ध्यान रखे की ज्यादा डार्क चीजे न लगी हो। 
  8. नार्थ या ईस्ट की दीवार पर बड़ी Wall Clock लगानी चाहिए। 
  9. यदि आप फॅमिली फोटो लगाना चाहते है तो इसे नार्थ या ईस्ट दिवार पर लगाए। 
  10. ड्राइंग रूम में अपने पितरो की फोटो न लगाए। 
  11. मंदिर इत्यादि ड्राइंग रूम में नहीं बनाना चाहिए। 
  12. वाटर फाउंटेन आप ड्राइंग रूम के नार्थ या ईस्ट में लगा सकते हैं। 
  13. किसी भी प्रकार की सीनरी इत्यादि को नार्थ की दिवार पर लगाना चाहिए। 
  14. लिविंग रूम के अंदर बाम्बू प्लांट रखना बहुत ही अच्छा होता हैं। 
  15. रॉक पिरामिड लिविंग रूम में जगह -जगह रखें इससे लिविंग रूम की ऊर्जा बढ़ती हैं। 

8. Vastu Tips for Mandir/ Puja Room:

  1. वास्तु के अनुसार घर में पूजा रूम नार्थ -ईस्ट दिशा में बनाना चाहिए। 
  2. हमेशा ध्यान रखें की पूजा करते समय आपका मुख ईस्ट दिशा की तरफ होना चाहिए। 
  3. कभी भी मंदिर बालकनी, छत या सीढ़ियों के नीचे नहीं बनाना चाहिए। 
  4. पूजा रूम के अंदर लाल रंग का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करना चाहिए। 
  5. मंदिर को किसी भी बीम के नीचे नहीं रखना चाहिए। 
  6. किचन, मास्टर बैडरूम इत्यादि में मंदिर बनाना एक वास्तु दोष उतपन्न करता हैं। 
  7. टॉयलेट की दीवार के साथ पूजा रूम बनाना घर में नकारात्मक ऊर्जा उतपन्न करता हैं। 
  8. मंदिर के अंदर दिशा के अनुसार लाइट का प्रयोग करना चाहिए। 
  9. यदि घर के नार्थ या ईस्ट दिशा में मंदिर बनाने की जगह न हो तो नार्थ की दिवार पर एक भगवान की फोटो लगाए। 
  10. कुछ वस्तुये जैसे श्री यन्त्र , नवग्रह चौकी आदि मंदिर में रखनी चाहिए। 
  11. मंदिर के अंदर कम से कम भगवान की मूर्तियाँ रखें। 
  12. हमेशा लाल या हरे रंग का बल्ब मंदिर में लगाना चाहिए , इससे मंदिर की ऊर्जा अच्छी बनी रहती हैं। 

9. Vastu Tips for Kitchen:

  1. घर में किचन हमेशा वास्तु के नियमों के अनुसार बनाना चाहिए , जिससे वहा सकारात्मक ऊर्जा रहे। 
  2. वास्तु के अनुसार घर में किचन साउथ -ईस्ट दिशा में बनाना चाहिए। 
  3. किचन के अंदर चूल्हा इस प्रकार रखे की खाना बनाते समय सदैव मुख ईस्ट में हो। 
  4. रसोईघर वास्तु अनुसार बनाते समय ध्यान रखें की वाशबेसिन या बर्तन धोने का स्थान नार्थ -ईस्ट में होना चाहिए। 
  5. गैस के नीचे की स्लैब का रंग हरा, सफ़ेद या ग्रे होना चाहिए। 
  6. लाल या काला रंग के स्लैब का इस्तेमाल किचन में नहीं करना चाहिए इससे नकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है। 
  7. यदि किचन में माइक्रोवेव या ओवन रखना हो तो इसे किचन के साउथ ईस्ट में ही रखे। 
  8. वास्तु के अनुसार रेफ्रीजिरेटर को साउथ -ईस्ट में रखना चाहिए। 
  9. घडी इत्यादि किचन में कभी नहीं लगाने चाहिए। 
  10. हमेशा ध्यान रखें की किचन का दरवाजा टॉयलेट के सामने न खुले यह घर के लोगो के स्वास्थ्य के लिए बहुत खराब होता  है। 

10. Vastu Tips for Toilet and Bathroom:

  1. किसी भी घर में टॉयलेट का निर्माण वास्तु अनुसार करना बहुत जरुरी होता है क्योकि टॉयलेट गलत जगह बने होने से घर में पैसो की समस्या उतपन्न होती हैं। 
  2. टॉयलेट निर्माण के लिए नार्थ -वेस्ट दिशा सबसे उपयुक्त होती है इस दिशा में टॉयलेट बनाने से किसी भी प्रकार का वास्तु दोष उतपन्न नहीं होता। 
  3. हमेशा टॉयलेट सीट इस प्रकार से लगाए की बैठते समय आप नार्थ या वेस्ट दिशा को देखे। 
  4. वाशबेसिन को टॉयलेट के ईस्ट में लगाना चाहिए। 
  5. यदि आप टॉयलेट में कोई खिड़की देना चाहते है तो उसे टॉयलेट के साउथ में बनवाये क्योकि साउथ दिशा से गन्दी हवा बाहर निकलना अच्छा होता हैं। 
  6. रंगो के चयन के समय ध्यान रखें की टॉयलेट के अंदर हरा , नीला , सफ़ेद , ग्रे या ब्राउन रंग कराये। 
  7. कभी भी टॉयलेट का निर्माण सीढ़ियों के नीचे न करे इससे घर में कलह बढ़ता हैं। 
  8. टॉयलेट की दीवार और रसोईघर की दीवार कभी भी एक नहीं होनी चाहिए। 
  9. घर के ब्रह्मस्थान में टॉयलेट का निर्माण नहीं करना चाहिए इससे घर के मुखियाँ को गंभीर बीमारी हो जाती हैं। 
  10. मास्टर बैडरूम में टॉयलेट के सामने बेड नहीं होना चाहिए। 


11 . Vastu Tips for Children's Room:

  1. वास्तु के अनुसार बच्चों के सोने का कमरा घर के नार्थ -ईस्ट दिशा में बनाना चाहिए। 
  2. बच्चो के कमरे में बेड इस प्रकार लगाना चाहिए की सोते समय ईस्ट दिशा में सर हो। 
  3. रंगो के चयन के समय ध्यान रखें की कमरे में हल्के रंगो का चुनाव करे। 
  4. कमरे के ईशान कोण में कोई भी भारी समान न रखें। 
  5. यदि कमरे में स्टडी टेबल रखना चाहते है तो वह ईस्ट फेसिंग रखनी चाहिए। 


12 . Vastu Tips for Master Bedroom:

  1. वास्तुशात्र के अनुसार घर के मुखियाँ का कमरा घर के साउथ-वेस्ट दिशा में बनाना चाहिए , ऐसा करने से घर में मुखियाँ की चलती हैं। 
  2. यदि घर के साउथ -वेस्ट में जगह न हो तो Master Bedroom को नार्थ -वेस्ट दिशा में बनाया जा सकता हैं। 
  3. बेड को मास्टर बैडरूम के अंदर इस प्रकार से लगाना चाहिए की सोते समय हमेशा साउथ या वेस्ट में सर रहें। 
  4. कभी भी बेड के सामने टॉयलेट का दरवाजा नहीं खुलना चाहिए , ऐसा होने पर मुखिया को गंभीर बीमारियों का सामना करना पड़ता हैं। 
  5. बैडरूम के अंदर भगवान की फोटो नहीं लगानी चाहिए। 
  6. अपने बड़ो , परिवार तथा पित्रों की फोटो भी मास्टर बैडरूम में लगाना वर्जित हैं। 
  7. बैडरूम के अंदर हमेशा डार्क रंगो का इस्तेमाल करे। 
  8. मास्टर बैडरूम के अंदर शीशा नहीं लगाना चाहिए , ऐसा करने से आपसी कल्ह बढ़ता हैं। 
  9. ये भी सुनिश्चित करे की बैडरूम का साउथ हमेशा भारी होना चाहिए। 
  10. यदि आप अलमीरा रखना चाहते है तो इसे कमरे के साउथ या वेस्ट में रखें। 

13 . Vastu Tips for Newly Married Couple:

  1. वास्तु के अनुसार नये शादी के जोड़े का कमरा घर के नार्थ -वेस्ट दिशा में बनाना चाहिए , इस दिशा में कमरा बनाने से पति -पत्नी के बीच सम्बन्ध अच्छे रहते हैं। 
  2. कमरे के अंदर पिंक , हरा, क्रीम , रेड तथा ऑरेंज रंगो का इस्तेमाल करना चाहिए। 
  3. कमरे के अंदर हंसो का जोड़ा जरूर रखें। 
  4. सोते समय साउथ या वेस्ट दिशा में सर रखें। 
  5. कमरे में शीशा इत्यादि नहीं लगाना चाहिए जिसमे आप खुद को देखे। 
  6. ईस्ट की दीवार पर घडी लगाए। 
  7. कमरे के अंदर बम्बो प्लांट लगाए इससे नकारात्मक ऊर्जा समाप्त होती हैं। 
  8. टॉयलेट के सामने बेड नहीं होना चाहिए इससे बीमारियां पैदा होती हैं। 
  9. Red Colour Crystal Lotus लगाने से आपसी रिश्तों में प्यार बढ़ता हैं। 
  10. कमरे के अंदर भगवान की पिक्चर नहीं लगानी चाहिए। 

14 . Vastu Tips for Stairs:

  1. किसी भी घर में सीढ़ियों की दिशा सबसे महत्वपूर्ण होती है ये सीधे घर के मुखिया को प्रभावित करती हैं। 
  2. वास्तु के अनुसार घर के नार्थ -वेस्ट में सीढ़ियों का निर्माण करना चाहिए। 
  3. हमेशा ध्यान रखें की सीढ़ियों की कुल संख्या सम हो। 
  4. सीढ़ियों को घडी की दिशा के अनुसार होना चाहिए। 
  5. ईशान कोण में कभी भी सीढ़ियों का निर्माण नहीं करना चाहिए इससे घर में पैसो की समस्या उतपन्न होती हैं। 
  6. घर के ब्रह्मस्थान  कभी भी सीढ़िया नहीं बनानी चाहिए। 
  7. सीढ़ियों के नीचे मंदिर या स्टोर आदि नहीं होना चाहिए। 
  8. आप सीढ़ियों के नीचे  बिजली का मीटर लगा सकते हैं। 
  9. कभी भी सीढ़ियों को जिग -जग नहीं होना चाहिए। 
  10. हमेशा हल्के रंगो का प्रयोग करना चाहिए सीढ़ियों पर। 

15 . Vastu Tips for Basement:

  1. वास्तु के अनुसार घर में बेसमेंट बनाना अच्छा नहीं होता हैं। 
  2. बेसमेंट और मुख्यद्वार हमेसा अलग होना चाहिए। 
  3. घर की मुख्य सीढ़ियां तथा बेसमेंट की सीढ़ियां अलग बनानी चाहिए। 
  4. बेसमेंट विशेष ध्यान रखें की उसका बह्मस्थान खुला हो। 
  5. पिलर इत्यादि का विशेष ध्यान रखें की कोई भी पिलर सेण्टर  आये। 

Conclusion: 


400 वास्तु टिप्स इन हिंदी में हमने Best Vastu in Hindi के बारे में जाना। जिसकी सहायता से आप एक आदर्श घर का निर्माण कर सकते हैं। 

आशा करते है उपरोक्त जानकारी आपको अच्छी लगी होगी , यदि आपका कोई प्रश्न हो तो हमे कमेंट करे। 

ये भी पढ़ें:





No comments:

Post a Comment

Please do not enter any Spam link in the comment box.

INSTAGRAM FEED

@soratemplates