Pooja Room Vastu: वास्तु अनुसार ऐसा बनाए पूजा रूम [Pooja Room Vastu Guide]

हम सभी लोग भगवान को मानते है जिस प्रकार हम घर के हर एक सदस्य के लिए उसकी रहने की जगह सुनिश्चित करते है वैसे ही जरुरी है की हम भगवान के रहने की जगह सुनिश्चित करे जिसे हम Pooja Room के नाम से जानते हैं। 

यदि आप भी पूजा रूम को घर में सही प्रकार से बनाना चाहते है और इसके सम्बन्ध में वास्तु नियमों के बारे में जानना चाहते है तो हम आपको इस लेख में विस्तार से पूजा रूम वास्तु, पूजा रूम वास्तु डायरेक्शन, पूजा रूम वास्तु टिप्स तथा पूजा रूम कलर सम्बन्धी सभी नियमों के बारे में विस्तार से बताएंगे। 

पूजा रूम को घर का सबसे सुंदर तथा सबसे सकारात्मक स्थान बनाने के लिए बहुत आवश्यक है की हम पूजा रूम सम्बन्धी सभी नियमों को ध्यान पूर्वक पालन करें। 


1. Pooja Room Vastu:

Pooja-Room-Vastu


क्या आप जानते है की घर का सबसे महत्वपूर्ण स्थान होता है -पूजा रूम। आजकल के समय में जहां हम फ्लैट या छोटे घरों में रहते है वहा घर का सबसे महत्वपूर्ण स्थान , पूजा रूम हम ध्यान ही नहीं रखते जिसके कारण हमे कई वास्तु दोष का समाना करना पड़ता हैं। 

वास्तुशास्त्र में भी घर का निर्माण करते समय या किसी भी घर में रहते समय जरुरी है की हम पूजा रूम के वास्तु का विशेष ध्यान रखें। क्योकि घर में सही प्रकार बनाया गया पूजा रूम घर की कई समस्याओं को हल करता हैं। 

Vastushastra के अनुसार Pooja Room घर के ईशान कोण या ब्रह्मस्थान में बनाना चाहिए। 


पूजा रूम बनाते समय वास्तु सम्बन्धी कुछ और नियम भी है जिनका हमे ध्यान रखना चाहिए, आईये उनके बारे में जानते हैं।  


1.1 Pooja Room Direction as per Vastu:


Pooja-room-direction-as-per-Vastu


जब भी हम पूजा रूम बनाते है, तब सबसे पहली चीज जिसका हमे ध्यान रखना चाहिए वह है पूजा रूम की दिशा। क्योकि घर के किस भाग में पूजा रूम बना है उसका पूजा रूम की ऊर्जा पर बहुत प्रभाव पड़ता हैं। 

पूजा रूम को घर में सही दिशा में लगाना बहुत महत्वपूर्ण होता है क्योकि तभी आप पूजा रूम वास्तु दोष से बच सकते हैं। 

वास्तु के अनुसार घर के नार्थ -ईस्ट दिशा में या ईस्ट दिशा में पूजा रूम बनाना चाहिए , यदि आपका घर बड़ा है जिसके ब्रह्मस्थान में खुली जगह है तो पूजा रूम का निर्माण यहा किया जा सकता हैं। 


पूजा रूम को सही डायरेक्शन में लगाने के बाद दूसरी महत्वपूर्ण चीज है पूजा रूम की फेसिंग। 


ये भी पढ़ें: विंड चाइम वास्तु इन हिंदी। 


1.2 Pooja Room facing at Home: 

पूजा रूम वास्तु में पूजा रूम या मंदिर की फेसिंग का ध्यान रखना बहुत जरुरी होता है , यहा हम आपको एक बात बताना चाहेंगे, बहुत से लोग मंदिर फेसिंग और पूजा करने वाले व्यक्ति की फेसिंग में बहुत अस्पष्ट रहते हैं। आगे हम जो फेसिंग की बात करेंगे वो मंदिर या पूजा रूम की फेसिंग होगी। 

पूजा रूम की फेसिंग हमेशा वेस्ट दिशा में होनी चाहिए , मतलब मंदिर या पूजा रूम में रखें भगवान की प्रतिमा वेस्ट की तरफ मुख की हुई होनी चाहिए। 


कुछ लोग पूजा करते समय वेस्ट दिशा में मुख करते है जोकि वास्तुअनुसार गलत होता है , क्योकि ईस्ट फेसिंग मंदिर रखने से हमे सिर्फ भगवान  सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होती है , जबकि वेस्ट फेसिंग मंदिर होने से हमे सूरज की ऊर्जा तथा भगवान की ऊर्जा दोनों प्राप्त होती हैं। 

पूजा रूम में भगवान की प्रतिमा या मूर्ति की दिशा का ध्यान रखना बहुत्त आवश्यक होता हैं। 

1.2. 1  पूजा रूम में मूर्तियों की फेसिंग: 

वास्तु के अनुसार पूजा रूम या मंदिर में भगवान की मूर्तियों को ईस्ट फेसिंग रखना चाहिए , क्योकि ऐसा करने से मंदिर की ऊर्जा सकारात्मक रहती हैं। 


1.2.2.  वास्तु अनुसार पूजा रूम में कितनी मुर्तिया रखें:

वास्तु शास्त्र के अनुसार मंदिर या पूजा रूम में एक भगवान की एक ही मूर्ति रखनी चाहिए , तथा हमेशा सम संख्या में ही मूर्ति रखें। 

मूर्तियों की संख्या विसम होना , मंदिर वास्तु दोष उतपन्न करता है जोकि घर में धन सम्बन्धी समस्या पैदा करता हैं। 

1.2.3. पूजा रूम में बल्ब का रंग:

पूजा रूम में बल्ब का रंग के चयन के लिए मंदिर की पोजीशन  रखना जरुरी होता है , यदि मंदिर ईशान कोण में बना हो तो लाल रंग का बल्ब लगाए। यदि मंदिर ईशान कोण के आलावा किसी और दिशा में बना हो तो बल्ब का रंग हरा, सफ़ेद या पीला होना चाहिए। 


2. Color of pooja room according to Vastu:

Color-of-pooja-room-according-to-Vastu


Prayer Room Vastu करते समय हमे पूजा रूम या मंदिर का रंग क्या रखें , इसका भी ध्यान रखना चाहिए। क्योकि मंदिर या पूजा  सही रंग एक आदर्श पूजा रूम का निर्माण करने में सहायता प्रदान करता हैं। 

किसी भी पूजा रूम के कलर उसकी दिशा व मंदिर की पोजीशन पर निर्भर करता हैं। जैसे के ईशान कोण में बना मंदिर सफ़ेद रंग का होना सबसे शुभ होता हैं। 


साउथ -वेस्ट में बना मंदिर का रंग ग्रे या लकड़ी के रंग का होना चाहिए , क्योकि यह रंग साउथ -वेस्ट दिशा का वास्तु सही करते हैं। 

सम्बंधित लेख: वास्तु दोष और उपाय। 

3. Vastu for Pooja Room in Flats:


Vastu-for-Pooja-Room-in-Flats


आजकल केआधुनिक समय में जहां हर कोई शहरों में रहना चाहते है , जिसकी वजह से एक नए प्रकार के घर का चलन निकल गया है जोकि है फ्लैट। 

वास्तु फॉर पूजा रूम इन फ्लैट में कुछ चीजों का मुख्य ध्यान रखना चाहिए क्योकि फ्लैट में जगह की कमी होती हैं। इसके लिए कुछ वास्तु टिप्स को जरूर ध्यान रखें। 

  • फ्लैट वास्तु के अनुसार मंदिर या पूजा रूम को ईशान कोण या ईस्ट दिशा में लगाए। 
  • ये जरूर ध्यान  पूजा रूम फ्लैट के आकार के अनुसार ही हो , ज्यादा बड़ा या ज्यादा छोटा  नहीं होना चाहिए। 
  • फ्लैट में पूजा रूम की फेसिंग वेस्ट होनी चाहिए , तथा यह किसी बीम के नीचे नहीं होना चाहिए। 
  • पूजा रूम का रंग सफ़ेद रखना सबसे बेहतर होता हैं। 
  • किचन के अंदर या सामने पूजा रूम नहीं बनाना चाहिए क्योकि ऐसा करने से वास्तु दोष उतपन्न होता हैं। 
उपरोक्त बिन्दुओ को ध्यान में रख कर हम पूजा रूम वास्तु इन फ्लैट को सही प्रकार व्यवस्तिथ कर सकते हैं। 

4. Pooja Room door Vastu:


Puja room door Vastu  में हमे पूजा रूम के दरवाजे के सम्बन्ध में वास्तु नियमों को विस्तार से जानेंगे। जिसमे हम पूजा रूम के दरवाजे की दिशा , फेसिंग तथा उसके रंग के सम्बन्ध में जानेंगे। 

4. 1 Pooja Room door direction:

पूजा रूम के दरवाजे की दिशा इस प्रकार की होनी चाहिए की वह ईस्ट या नार्थ दिशा की ओर खुले। 

4. 2  पूजा रूम door facing:

पूजा रूम को इस प्रकार से लगाना चाहिए की pooja room door facing वेस्ट दिशा की ओर हो। 

4. 3 Pooja Room Door Color:

पूजा रूम के दरवाजे का रंग मंदिर के कलर के अनुसार ही होना चाहिए , जोकि हम मंदिर के कलर के बारे में बता चुके हैं। 


5. Pooja Room under Staircase Vastu:


Pooja-Room-Under-Staircase


बहुत से घरो में हम देखते है की पूजा रूम को सीढ़ियों के नीचे बनाया होता है , इसकी मुख्य वजह जगह की कमी होती हैं। 

पर क्या सीढ़ियों के नीचे मंदिर या पूजा रूम बनाना सही होता हैं ?

यह आज के समय में बहुत ही महत्वपूर्ण प्रश्न है क्योकि शहरों में जगह की कमी के कारण पूजा रूम बनाना बहुत ही मुश्किल हो जाता हैं। तो आईये हम आपको इस प्रश्न का उत्तर देते हैं। 

वास्तुशास्त्र के नियमों के अनुसार Pooja Room under staircase बनाना, मंदिर वास्तु दोष को उतपन्न करता है क्योकि मंदिर या पूजा रूम घर में खुली जगह बनाने चाहिए , जैसे ईस्ट दिशा , ब्रह्मस्थान व नार्थ दिशा। 

पूजा रूम को सीढ़ियों के नीचे बनाने से कई समस्याएं उतपन्न होती हैं जो इस प्रकार हैं :


  • घर में कर्जा होने का पहला कारण पूजा रूम का सीढ़ियों के नीचे होना होता हैं। 
  • यदि घर में किसी की अचानक मृत्यु हो जाये तो यह भी सीढ़ियों के नीचे पूजा रूम से ही होता हैं। 
  • घर के मुखिया का मानसिक संतुलन बिगड़ जाना। 
  • दाम्पत्य जीवन में कलह बढ़ना। 
  • बच्चो का बीमार रहना। 
उपरोक्त समस्या का मुख्य कारण सीढ़ियों के नीचे पूजा रूम का निर्माण करना होता है , इसलिए हमे सीढ़ियों के नीचे पूजा रूम नहीं बनाना चाहिए। 


6. Vastu Tips for Pooja Room:


वास्तु टिप्स फॉर पूजा रूम में हम कुछ ऐसे वास्तु नियमों के बारे में जानेंगे जो हमे पूजा रूम वास्तु को सम्पूर्ण करने में सहायक होंगे। 

  1. घर में पूजा रूम बनाते समय ध्यान रखे की पूजा रूम को घर के साउथ -ईस्ट (फायर जोन) में नहीं बनाना चाहिए। 
  2. पूजा रूम यदि घर के ब्रह्मस्थान में बना हो तो पूजा रूम में कोई भी भारी या बड़ी मूर्ति न रखें। 
  3. बैडरूम के अंदर कभी भी पूजा रूम नहीं बनाना चाहिए। 
  4. टॉयलेट के सामने या टॉयलेट की दीवार पर पूजा रूम नहीं बनानी चाहिए। 
  5. किचन के अंदर पूजा रूम नहीं बनाना चाहिए क्योकि किचन के अंदर आग का कार्य होता हैं। 
  6. बालकनी में पूजा रूम या बालकनी को कवर करके पूजा रूम बनाने से पूजा रूम की ऊर्जा घर में नहीं मिल पाती। 
  7. पूजा रूम का स्थान घर के वास्तु को बहुत प्रभावित करता है इसलिए पूजा रूम के स्थान का विशेष ध्यान रखें। 
  8. Mirror इत्यादि पूजा रूम के अंदर या सामने नहीं लगाने चाहिए। 
  9. बच्चों के कमरे में पूजा रूम बनाया जा सकता है परन्तु उसके लिए वास्तु के नियमों का विशेष ध्यान रखें। 
  10. भगवान की मूर्ति कभी भी लोहे की नहीं होनी चाहिए। 
  11. बहुत से घरों में लोग मंदिर या पूजा रूम के अंदर घोड़े की नाल रखते है जोकि वास्तु के अनुसार नहीं रखनी चाहिए। 
  12. किसी भी प्रकार का शंख घर के पूजा रूम में रखना घर को बर्बाद कर देता हैं। 
  13. कभी  भी घर के पूजा रूम में  शिवलिंग नहीं रखना  चाहिए। 
  14. लाल रंग के कपड़े का इस्तेमाल पूजा रूम में  जरूर करना चाहिए। 
  15. श्री यंत्र पूजा रूम में लगाने से घर में बरकत बढ़ती हैं। 
  16. कामधेनु गाय को पूजा रूम में रखना चाहिए इसको इस प्रकार रखें की वह नार्थ फेसिंग हो। 
  17. पूजा रूम के अंदर नवग्रह चौकी जरूर लगाए इससे मंदिर वास्तु मजबूत होता हैं। 
  18. किसी भी पिलर पर मंदिर नहीं लगाना चाहिए। 
  19. बीम के नीचे पूजा रूम नहीं होना चाहिए। 
  20. घंटी को पूजा रूम में लगाना बहुत ही शुभ होता हैं। 
  21. यदि आप चाहे तो मेटल Wind Chime मंदिर में लगा सकते हैं। 

पूजा रूम वास्तु टिप्स में हमने पूजा रूम संबंधी कुछ जरुरी वास्तु नियमो के बारे में जाना जोकि पूजा रूम वास्तु में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। 


7. Pooja Room Vastu for East facing house:

East facing House Vastu में हमे कई महत्वपूर्ण चीजों का ध्यान रखना चाहिए , जिससे की हमे ईस्ट फेसिंग घर  लाभ मिल सके। इसके लिए कई महत्वपूर्ण चीजे है, जिनमें से एक है Pooja room Vastu for East facing House

जैसा की आप जानते ही है ईस्ट फेसिंग घर वास्तुशास्त्र में सबसे शुभ माने जाते है, इसका मुख्य कारण उनका वास्तु अनुसार होना होता है। क्योकि ईस्ट फेसिंग घर में ज्यादातर चीजे खुद ही वास्तुअनुसार बन जाती है, यही कारण घर बनाने के लिए ईस्ट दिशा को लाभदायक बनाता हैं। 

वास्तु के अनुसार ईस्ट फेसिंग हाउस में पूजा रूम ईस्ट दिशा , नार्थ दिशा या नार्थ -ईस्ट दिशा में बना होना चाहिए , जिसकी फेसिंग वेस्ट दिशा में होनी चाहिए। 


ईस्ट फेसिंग हाउस में ज्यादा तर पूजा रूम या तो ड्राइंग रूम में बना होता है या फिर ड्राइंग रूम के साथ में, इसलिए ड्राइंग रूम वास्तु जरूर ध्यान रखें। 

 8. Pooja Room Vastu for North facing House:

यदि हम घर बनाने के लिए सबसे शुभ दिशा की बात करे तो बिना किसी अस्पस्थता के सबसे पहले नाम आता है नार्थ फेसिंग हाउस का। 

आज हम नार्थ फेसिंग हाउस में पूजा रूम के लिए बताये वास्तु नियमों के बारे में जानेंगे। 

नार्थ फेसिंग घर में पूजा रूम घर के ईशान कोण यानि नार्थ -ईस्ट दिशा में बनाना चाहिए, क्योकि ऐसा करने से नार्थ फेसिंग घर का वास्तु मजबूत होता हैं। 


जैसा की आप जानते ही है घर में पूजा रूम सही होने से , घर की खुशहाली सदा बनी रहती हैं।  

 9. Pooja Room Vastu for South facing House:

साउथ फेसिंग घरों में वास्तुशास्त्र का विशेष ध्यान रखना चाहिए, क्योकि इन घरों का वास्तु बहुत ही ध्यानपूर्वक किया जाता हैं। 

उसका कारण है साउथ दिशा की ऊर्जा। वास्तुशास्त्र में माना जाता है की साउथ दिशा से नकारात्मक ऊर्जा उतपन्न होती है जिससे घर में कई दोष उतपन्न होते हैं, इसलिए साउथ फेसिंग घरों में वास्तु का बहुत ध्यान रखना चाहिए। 

वास्तु के नियमों के अनुसार पूजा रूम घर के ईस्ट दिशा में बनाना चाहिए तथा इसकी फेसिंग वेस्ट रखनी चाहिए। 


ज्यादातर साउथ फेसिंग घरो में पूजा रूम किसी कमरे में बना होता है, इसलिए ध्यान रखें यह मास्टर बैडरूम बना हो। तथा यह स्टोर रूम में भी नहीं होना चाहिए। 

10. Pooja Room Vastu for West facing House:

वास्तु के हिसाब से वेस्ट फेसिंग घर सबसे कम लाभकारी होते है, क्योकि वेस्ट दिशा को Disposal करने की दिशा भी बोला जाता हैं। यही कारण है इस दिशा के घरों में पूजा रूम का चयन ध्यान पूर्वक करना चाहिए। 

वेस्ट फेसिंग हाउस में पूजा रूम घर के नार्थ या नार्थ -ईस्ट में बनाना चाहिए, तथा इसकी फेसिंग वेस्ट में होनी चाहिए। 


11. Which direction should god face in Pooja Room:

हम सभी चाहते है की हम जो अपने घर में पूजा रूम या मंदिर बनाए वह सबसे सुंदर तथा वास्तुशास्त्र के अनुसार हो।  ऐसा करने के लिए जरुरी है की हम मंदिर सम्बंधित वास्तु नियमों का पुरे ध्यान से इस्तेमाल करें। 

यदि आपके भी मन में यह प्रश्न उड़ता है की क्या वास्तुशास्त्र के अनुसार मंदिर में भगवान की भी कोई दिशा होती है तो आप बिलकुल सही है जिसके बारे में हम आपको आगे बतायेंगे। 

वास्तुशास्त्र के अनुसार जब आप पूजा करें तब आपका मुख ईस्ट दिशा की ओर होना चाहिए , उस प्रकार से Pooja Room में God facing वेस्ट दिशा की ओर होनी चाहिए। 


निष्कर्ष: 

वास्तुशास्त्र में Pooja Room Vastu, Prayer Room Vastu या वास्तु फॉर मंदिर का विशेष महत्व हैं क्योकि किसी भी घर में पूजा रूम वास्तु सही होना घर के वास्तु को मजबूत करता हैं। 

उपरोक्त लेख में हमने पूजा रूम वास्तु के सम्बन्ध में सभी वास्तु नियमों के बारे में जाना, जोकि आपके पूजा रूम वास्तु को मजबूत करने में सहायक होंगे। 

आपके कीमती समय के लिए धन्यवाद, हम आशा करते है आपको लेख में दी गयी जानकारी अच्छी लगी होगी, यदि आपका कोई भी प्रश्न हो तो हमे कमेंट करे , तथा जानकारी को शेयर जरूर करें। 

क्योकि आप ने सुना तो होगा ही   Sharing is Caring !


ये भी पढ़ें:








No comments:

Post a Comment

Please do not enter any Spam link in the comment box.

INSTAGRAM FEED

@soratemplates