वास्तु अनुसार काँच टूटना सही या गलत जाने | Breaking of Glass in Vastu

वास्तुशास्त्र के अनुसार काँच का टूटना कैसा होता हैं ? यह प्रश्न आप सभी के मन में आता होगा , परन्तु क्या आपको पता है काँच का टूटना हमेशा अशुभ नहीं होता हैं। आपको यह पढ़कर अजीब लगा की कैसे Glass Breaking in Vastu अशुभ नहीं होता , जबकि आप हमेशा सुनते है की शीशा टूटना अपशगुन होता हैं। 

आज के इस लेख में हम काँच टूटने संबंघी सभी बिन्दुओ पर प्रकाश डालेंगे और आपको बताएंगे की Glass Breaking according to Vastu कैसी होती हैं। 

Vastu for Glass:

breaking-of-glass-in-home


वास्तुशास्त्र में Glass का बहुत अधिक महत्व होता है , ऐसा माना जाता है की काँच में सकारात्मक ऊर्जा रहती हैं। इसलिए इसको वास्तु अनुसार काँच की दिशा के अनुसार ही लगाना चाहिए। यदि काँच को वास्तु अनुसार लगाया जाए तो यह बहुत शुभ होता हैं। 

काँच को घर में लगाने के लिए स्थान बताये गए है और उसकी दिशा भी स्थापित की गयी हैं , आईये उनके बारे में जानते हैं। 

1.1 Best Place for Glass Placement:

घर में कई जगह है जहां Glass लगाने से घर के वास्तुशास्त्र में वृद्दि होती हैं। Glass Placement according to Vastu हमें काँच को Kitchen , Toilet , Pooja Room , Drawing Room इत्यादि में लगाना बहुत शुभ होता हैं।

परन्तु इसको लगाते समय दिशा का विशेष ध्यान रखें।  

1.2  Direction for Glass Placement:

वास्तु अनुसार घर के नार्थ या ईस्ट दिशा में ही काँच लगाए , तथा ध्यान रखें की साउथ या वेस्ट दिशा में कभी भी काँच नहीं लगायें। 

ये भी पढ़ें: वास्तु टिप्स फॉर प्लाट।


2. Breaking of Glass in Vastu:

वास्तुशास्त्र के अनुसार Glass या काँच का टूटना अपशगुन माना जाता हैं , इसका मुख्य कारण है , जैसा की हमने आपको बताया था काँच में सकारात्मक ऊर्जा होती हैं।  परन्तु जब नकारात्मक ऊर्जा घर में बढ़ती है तो काँच टूट जाता हैं। 

यदि काँच शुभ के वक्त टूटे तो यह बहुत अशुभ होता है , इसके अलावा किसी और समय काँच टूटने पर उतने नकारात्मक प्रभाव नहीं आते। 

ये भी पढ़ें: वास्तु टिप्स फॉर हेल्थ। 


3. काँच का टूटना शुभ या अशुभ ?

यदि घर में अपने आप काँच टूट जाये और वो भी शुभ के समय तब यह बहुत ही अशुभ होता हैं , ऐसा होने पर घर के ईशान कोण में किसी बर्तन में पानी भरकर रखे ऐसा करने से नकारात्मक ऊर्जा कुछ कम हो जाती हैं। 

यदि काँच आपकी गलती से टुटा हो वो भी सुबह के समय के अलावा किसी और समय तो यह शुभ होता हैं। 

ये भी पढ़ें: Vastu Tips in Hindi.


4. काँच टूटने पर क्या करें (Breaking of Glass meaning ):

ऐसा माना जाता है की काँच में सकारात्मक ऊर्जा रहती है यदि यह अपने आप टूट जाये इसका मतलब नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो गयी हैं। इसलिए हमेशा काँच टूटना गलत नहीं होता। 

काँच टूटने पर टूटे हुए काँच के टुकडो को घर से बाहर डाल दे , तथा घर के नार्थ -ईस्ट दिशा में पानी भरकर रख दे। 

5. What happens if Glass breaks in home:

हमारे हिन्दू रीती -रिवाजों में बहुत से शगुन -अपशगुन को माना जाता है , उनमे से एक काँच का टूटना हैं।  ज्यादातर काँच का टूटना अपशगुन माना जाता हैं  परन्तु ऐसा हमेशा नहीं होता हैं। कई बार काँच टूटना नकारात्मक ऊर्जा समाप्त होने का संकेत माना जाता हैं। 

इसलिए काँच वास्तु को ध्यान से समझे और उसके अनुसार इसको घर में लगाए।  इस प्रकार से काँच टूटने पर कोई भी अपशगुन नहीं होता। 

ये भी पढ़ें: Water Fountain Vastu. 


6. काँच से जुड़े वास्तु टिप्स:

वास्तुशास्त्र में काँच का विशेष महत्व  इसका उपयोग वास्तु दोष के उपाय के लिए भी किया जाता हैं। परन्तु घर में टुटा हुआ कांच नहीं रखना चाहिए ऐसा करने से नकारात्मक ऊर्जा घर में ही रहती हैं।  जोकि घर के लिए अच्छा नहीं होता। 

हमेशा ध्यान रखें की घर में गोल या अंडाकार आकार का ही Glass लगाए , यह बहुत ही सकारात्मक प्रभाव डालते हैं। 

कभी भी Master Bedroom में या Main Door पर Glass न लगाये। 

Conclusion:

उपरोक्त लेख में हमने Vastu for Glass , वास्तु अनुसार Glass direction एंड Glass Placement तथा काँच से जुड़े वास्तु टिप्स के बारे में जाना। 

यदि आपको जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करे और यदि आपका कोई प्रश्न हो तो कमेंट करें। 

No comments:

Post a Comment

Please do not enter any Spam link in the comment box.

INSTAGRAM FEED

@soratemplates